Wednesday, May 22, 2024
More
    Homeदिल्लीविपक्ष करता है तुष्टिकरण की राजनीतिः PM नरेंद्र मोदी

    विपक्ष करता है तुष्टिकरण की राजनीतिः PM नरेंद्र मोदी

    दिल्ली। पीएम नरेन्द्र मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन से प्रेरित होकर पूरा देश ‘भ्रष्टाचार, वंशवाद और तुष्टिकरण-भारत छोड़ो’ का समर्थन कर रहा है.  पीएम मोदी ने वीसी के जरिएम देशभर में 508 रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्य की आधारशिला रखी. इसके बाद एक समारोह को संबोधित करते हुए पीएम ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि विपक्ष का एक वर्ग इस सिद्धांत पर काम कर रहा है कि ना तो वे काम करेंगे और ना ही किसी और को काम करने देंगे.

    पीएम ने कहा कि आधुनिक संसद भवन का निर्माण किया गया है, लेकिन विपक्ष के एक वर्ग ने इसका भी विरोध किया. विपक्ष ने 70 साल तक शहीदों के लिए कोई युद्ध स्मारक नहीं बनाया लेकिन जब हमने इसका निर्माण किया, तो उन्हें इसका विरोध करने में भी शर्म नहीं आई. मोदी ने कहा कि सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा है और सभी भारतीयों को इस पर गर्व है. कुछ दलों को चुनाव के दौरान भारत के पहले गृह मंत्री की याद आती है लेकिन उनका कोई भी बड़ा नेता पटेल की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करने नहीं गया. मोदी ने विपक्ष पर ‘‘नकारात्मक राजनीति’’ करने का आरोप भी लगाया. पीएम ने कहा कि ‘‘हम नकारात्मक राजनीति से ऊपर उठकर विकास को प्राथमिकता देते हुए सकारात्मक राजनीति की राह पर मिशन मोड में आगे बढ़ रहे हैं।’’

    मोदी ने कहा, ‘‘भारत छोड़ो आंदोलन से प्रेरित होकर पूरा देश अब कह रहा है भ्रष्टाचार-भारत छोड़ो, वंशवाद-भारत छोड़ो, तुष्टिकरण-भारत छोड़ो।’’पीएम ने कहा कि आज पूरी विश्व में भारत की प्रगति का डंका बज रहा है. पूरी दुनिया का ध्यान भारत पर ही केंद्रित रहती है. पीएम ने कहा कि  ‘‘भारत को लेकर दुनिया के नजरिए में बदलाव आया है. मोदी ने कहा, ‘‘भारत विकसित होने के लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है और यह अमृतकाल के आरंभ में है. नयी ऊर्जा, नयी प्रेरणा, नए संकल्प हैं और इसी भावना के साथ भारतीय रेलवे के इतिहास में एक नया अध्याय शुरू हो रहा है।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -
    Google search engine

    Most Popular

    Recent Comments