Monday, May 27, 2024
More
    Homeताजा खबरब्रिटेन में भारतीय को 8 साल की सजा, जानें पूरा मामला

    ब्रिटेन में भारतीय को 8 साल की सजा, जानें पूरा मामला

    लंदन। ब्रिटेन में एक अजीब मामला सामने आया है। यहां भारतीय मूल के जालसाज को आठ साल के कारावास की सजा सुनाई है। पुलिस अधिकारी या बैंक कर्मी बनकर बुजुर्गों और अन्य के साथ ठगी करने वाले भारतीय मूल के 28 वर्षीय जालसाज को लंदन की एक अदालत ने धोखाधड़ी के 9 मामलों में 8 साल के कारावास की सजा सुनाई है।

    मेट्रोपॉलिटन पुलिस के मुताबिक, स्नेरेसब्रुक क्राउन कोर्ट ने किशन भट्ट को पिछले साल नवंबर में दोषी ठहराया था और मंगलवार को उसको सजा सुनाई। पुलिस के अनुसार, ‘स्पेशलिस्ट इकोनॉमिक क्राइम’ टीम ने अपनी जांच में पाया कि भट्ट ने 9 पीड़ितों के साथ 2.60 लाख ब्रिटिश पाउंड से अधिक राशि की धोखाधड़ी की थी और उसने ठगी के कई अन्य प्रयास भी किए थे, जिन्हें वित्तीय संस्थानों या आभूषण विक्रेताओं ने नाकाम कर दिया था।

    पुलिस ने बताया कि भट्ट के सहयोगी आर्टियम किसेलियोव (35) को धोखाधड़ी के एक मामले में पिछले साल अप्रैल में कारावास की सजा सुनाई गई थी। किसेलियोव की गिरफ्तारी एक संदिग्ध जौहरी द्वारा 90 वर्षीय पीड़िता के संबंध में पुलिस से संपर्क करने के बाद हुई थी। उसने बताया था कि पीड़िता से एक अज्ञात व्यक्ति ने खुद को पुलिस अधिकारी बताते हुए संपर्क किया था। उसने एक व्यक्ति को पीड़िता के बैंक कार्ड के साथ गिरफ्तार करने की बात कही थी।

    शिकायकर्ता जौहरी के मुताबिक, कॉलर ने बुजुर्ग महिला से कहा था कि अगर उसे अपने पैसे बचाने हैं, तो सोने और आभूषणों में निवेश करना होगा, जिससे जालसाज उसके कार्ड का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। पीड़िता से महंगी घड़ियां आदि चीजें भी खरीदवाई गई। इसके बाद, किसेलियोव उसके घर पहुंचा और इन चीजों को सुरक्षित स्थान पर रखने के नाम पर उक्त सभी चीजें ले लीं। शिकायकर्ता के अनुसार, जालसाजों को पकड़वाने में मदद के नाम पर किसेलियोव और भट्ट बुजुर्ग महिला को लंदन की एक दुकान पर ले गए और उससे सोने के आभूषण भी खरीदवाए। जांचकर्ताओं ने मामले की जांच करते हुए उस वाहन की पहचान की, जिससे किसेलियोव और भट्ट बुजुर्ग महिला को लेकर आभूषण की दुकानों पर पहुंचे थे।

    उन्होंने बताया कि भट्ट ने सितंबर 2020 से मई 2022 के बीच 29 से 90 साल के 9 लोगों के साथ या तो बैंक कर्मी या पुलिस कर्मी या फिर मकान मालिक बनकर ठगी की थी। पीड़ितों का भरोसा जीतने के बाद वह उनके खाते में मौजूद राशि अपने खाते में स्थानांतरित कर लेता था। पुलिस के अनुसार, ज्यादातर पीड़ितों से ठगी गई राशि उनके बैंक खातों में जमा करा दी गई है।

    Mamta Berwa
    Mamta Berwa
    JOURNALIST
    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -
    Google search engine

    Most Popular

    Recent Comments