Monday, May 27, 2024
More
    HomeCrime Newsआपसी कलह के चलते पत्रकार ने खुद को गोली मार कर की...

    आपसी कलह के चलते पत्रकार ने खुद को गोली मार कर की आत्महत्या

    उदयपुर। झीलों की नगरी कहे जाने वाले उदयपुर शहर में एक पत्रकार ने आपसी कलह के चलते खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार युवक की पहचान भरत मिश्रा के रुप में हुई. जो कि उदयपुर शहर में रहता था. पत्रकार भरत मिश्रा ने आत्महत्या से पहले सोशल मीडिया पर एक सुसाइड नोट पोस्ट किया. इस सुसाइड नोट में पत्रकार भारत मिश्रा ने इस कदम के लिए अपनी पत्नी और कथित प्रेमिका को जिम्मेदार ठहराया.

    घटना गुरुवार देर शाम गोवर्धन विलास थाना क्षेत्र की है, जहां स्थानीय पत्रकार भरत मिश्रा ने अपनी प्रेमिका बिन्सी परेरा के घर जाकर खुद को गोली मार ली. भारत की दोपहर में बिन्सी से फोन पर बहस हुई थी और शाम को उसने आत्महत्या कर ली. पुलिस के अनुसार भरत ने कुछ समय पहले ही फेसबुक पर सुसाइड नोट पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने अपनी जिंदगी में उथल-पुथल के लिए अपनी पत्नी कौशल्या और प्रेमिका को जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा कि उनकी आत्महत्या के लिए ये दोनों महिलाएं जिम्मेदार हैं. थाना प्रभारी अजय सिंह ने बताया कि शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया जायेगा.

    पढिए भरत मिश्रा द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट

    नमस्कार ,में भरत मिश्रा पुत्र किशोर मिश्रा अपने होश और हवास में यह कदम उठा रहा हूँ और मेरी जीवन लीला समाप्त कर रहा हूँ और इसकी पूरी ज़िमेदारी कौशल्या मिश्रा ( पत्नी) की और मेरी प्रेमिका बिंसी परेरा की है क्योंकि मेरी पत्नी कौशल्या की  हरकतों से मेरे दोस्तों और मेरे परिचितों में बदनाम हो रहा हूँ इस औरत (कौशल्या) ने मेरी हर जगह चाहे वो मेरा काम हो या मेरी दोस्ती सभी में बदनामी की है और मुझे इस औरत ( कौशल्या ) से कोई पत्नी होने का सुख नहीं मिला इसने सिर्फ़ मेरे नाम का उपयोग किया है और मेरी महिला मित्रों के पास जा कर झगड़ा कर के उनको भी भला बुरा कहा है और उन महिला मित्रों के सामने मुझे कई बार शर्मिंदा होना पड़ा है ।लेकिन अब इस औरत के हरकतों से में परेशान हो चुका हूँ इससे मुझे किसी प्रकार का कोई सुख नहीं मिला इस औरत ( कौशल्या ) ने मुझे सिर्फ़ हर जगह मेरी इज्जत ख़राब की है और जहां मेरी कोई महिला मित्र या मेरे दोस्त मुझे समय देते या समय माँगते तो यह औरत ( कौशल्या ) उनके पास जा कर मेरी बदनामी करती है और उनसे मेरा व्यवहार ख़राब कर  देती है ।इस बात को लेकर कई बार हमारे बीच में  झगड़ा भी हो चुका है और कई बार मैंने समझाने की कोशिश भी की लेकिन इस औरत ( कौशल्या ) ने एक नहीं सुनी और इसकी हरकते  बढ़ने लगी और इस रिलेशन को लगभग 21 साल हो गये है लेकिन में इस औरत ( कौशल्या ) को नहीं समझा पाया ।कई बार सोचा की इस औरत से तलाक़ ले लू लेकिन मेरे बूढ़े माँ और बाप की इज्जत के मारे में इसको बर्दाश्त करता रहा फिर मैंने उसको अपने से अलग कर दिया और मैं अपनी धुन में रहने लगा।

    इसी दरमियान मेरी ज़िंदगी में एक लड़की का आना हुआ जिसको मैंने मेरी सारी बारे बताई तो उस लड़की जिसका नाम (बिंसी परेरा )है उसके बाद उसने मेरी लाइफ में पत्नी की कमी को पूरा किया एक पत्नी होने का सारा फ़र्ज़ निभाया और हमारी लाइफ़ काफ़ी अच्छे से चल रही थी इसके बाद पिछले महीने की 9 तारीख़ मेरी बिंसी के घर पर कौशल्या आई और उसको भला बुरा कहने लगी और मेरी बदनामी कारते हुए मेरे फोटो को दिखाने लगी और हर कुछ कहने लगी जिस पर में भी बिंसी के घर पर पहुँचा और मैंने कौशल्या को बिंसी और मेरे रिश्ते के बारे में बता दिया दिया जिस पर कौशल्या ने कई बार बिंसी के घर जा कर उसको भला बुरा कहा ।इस बात को ले कर हमारे बीच में झगड़ा होने लगा और आज की तारीख़ में झगड़ा इतना बढ़ा हुआ है की कौशल्या बार बार धमकी देती है और मुझे व बिंसी को बदनाम करने की धमकी भी देती है कौशल्या ने बिंसी के मोबाइल पर कई उल्टे सीधे संदेश मुझे बदनाम करने के लिए और बिंसी से झगड़ा करवाने के लिए भेजे लेकिन बिंसी काफ़ी समझदार है और वो हमेशा मेरे और मेरे प्यार को समझती है,लेकिन कौशल्या ने मेरा जीना हराम कर रखा है ,एक बात और आप सभी को बताना चाहता ही कि इस औरत कौशल्या ने कई बार मेरी महिला मित्रों के साथ बदसलूकी की है और वो अब सब मेरे से सिर्फ़ कौशल्या की वजह से दूर है में उन सब का नाम नहीं लेना चाहता क्योंकि वो सब सिर्फ़ मेरी दोस्त रही है ,मेरे बूढ़े माँ बाप ने भी कई बार इस औरत कौशल्या को समझाने की कोशिश की लेकिन यह नहीं मानी और इसकी यह हरकते जारी है,बिंसी और में पिछले काफ़ी समय से एक पत्नी और पति का जीवन जी रहे है और बिंसी के पेट में मेरा होने वाला बच्चा भी पल रहा है। बिंसी में तेरे से एक ही आख़िरी इच्छा रखता हूँ की हमारे होने वाले बच्चे को मारना मत उसको जन्म देना और किसी की बात में मत आना ।लेकिन इस औरत कौशल्या की वजह से बिंसी और मेरे बीच में काफ़ी लड़ाई बढ़ने लगी ,बिंसी मुझे काफ़ी प्यार करती है और मेरे बिना एक पल भी नहीं रह सकती है दिन में हम साथ होते है और पति और पत्नी का जीवन जीते है लेकिन इस औरत कौशल्या ने मेरी पूरी ज़िंदगी  बर्बाद कर दी है ।

    लेकिन बिंसी भी मेरी पत्नी कौशल्या की बात में आई और फिर हमारा झगड़ा बढ़ने लगा इन दोनों के झगड़ों से में परेशान हो गया ही और यही दोनों औरते है जो मेरी मौत की पूरी ज़िम्मेदार है में मेरे सभी दोस्तों से माफ़ी माँगता हूँ की मैंने इस तरह का ग़लत कदम उठाया लेकिन अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था जहां भी मुझे ख़ुशी मिलती है वहाँ यह औरत कौशल्या आ कर सब लोगो के बीच में ग़लतफ़हमी करवा देती और फिर झगड़े से सब लोग अलग हो जाते है।मैं और मेरी बिंसी बहुत खुश थे और हम हमारा जीवन बड़े अच्छे से जी रहे थे लेकिन इस औरत कौशल्या ने भड़का कर बिंसी और मेरे बीच में लड़ाई करवा दी।बिंसी मुझे माफ़ कर देना में तुझे बीच रास्ते में छोड़ कर जा रहा हूँ लेकिन तू हिम्मत मत हारना और तेरे पेट में पल रहे हमारे होने वाले बच्चे को जन्म ज़रूर देना ।और बिंसीं तेरे से सिर्फ़ एक ही प्रथना है की तू मेरी जगह किसी और को मत देना और किसी के साथ शादी मत करना । मैंने कई बार बिंसी को समझाने की कोशिश की और कहा था कि मेरे बारे में कौशल्या ने जो बाते बताई है सब झूठ है मेरा संबंध सिर्फ़ बिंसी से ही है जो की शारीरिक ,मानसिक सभी तरह  का है।

    बाक़ी जो कौशल्या ने तुझे दिखाया या बताया वो सब ग़लत है और मैं ऊपर जा कर भगवान से यही प्रथम प्रार्थना करुंगा की मुझे हर जन्म में बिंसी जैसी चाहने वाली और सर आँखों पर बिठाने वाली पत्नी  मिले ।बिंसी मैंने तुझे जो भी झूठ बोला है वो धोखा देने  लिए नहीं था ।वो सिर्फ़ अपना रिश्ता बचाने के लिए था लेकिन तेरी सिर्फ़ एक ही गलती है की तूने सिर्फ़ एक तरफ़ की बात सुनी जो उस औरत कौशल्या ने  तुझे बताई लेकिन तूने मुझे सफ़ाई का कोई मौक़ा नहीं दिया में एक मर्द हो कर भी तेरे सामने सिर्फ़ इसलिए माफ़ी माँग रहा था कि तूने मुझे पति होने  का अहसास दिलाया और पत्नी होने कि सारी ज़िम्मेदारी निभाई जो की एक ईमानदार और वफ़ादार पत्नी होने की पहचान है ।लेकिन उस औरत कौशल्या ने मेरी 21 साल की ज़िंदगी ख़राब कर रखी थी और फिर बिंसी तूने भी उसकी बातों में आ कर और ज़िंदगी ख़राब कर दी और तुम दोनों की वजह से ही मुझे मौत को गले लगाना पड़ रहा हैं।

    मेरी परेशानी और मेरी हालत को बिंसी तु समझ सकती है या फिर मेरे करीबी दोस्त भूपेन्द्र यादव(भयू) पंकज सिंह चौहान और निमिशा बेनी जो कि बिंसी और मेरे ख़ास दोस्त है ।यह सभी लोग मेरी मानसिक स्थिति को जानते है और कई बार में इन लोगो के सामने फुट फुट कर रोया हूँ।

    भूपेन्द्र ,पंकज,निमिशा आप सभी से माफ़ी माँगता हूँ की में घुट घुट कर और मर मर कर नहीं जीना चाहता हूँ।बिंसी को भी उस औरत कौशल्या ने भला बुरा कह कर मेरे बारे में भड़का कर दूर कर दिया ।

    इसके बाद जीने की इच्छा ख़त्म हो गई ।बिंसी तेरे फ़ोन में जो हमारे साथ  के जो फोटो है हमारे प्यार वाले उसका फ़्रेम बना कर मेरी अर्थी पर ज़रूर रखना और मेरी लाश को जलाने  पहले एक बार पत्नी होने की रस्म पूरी ज़रूर देना। और तेरे पेट मैं पल रहे मेरे बच्चे को ज़रूर जन्म देना ।

    बिंसी में यह कदम नहीं उठता लेकिन तेरी दूरी ,परायापन और कौशल्या का झगड़ा अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है सोचा था की 21 साल की इस बेकार लाइफ  बाद बिंसी मेरी लाइफ में गोल्डन टाइम लें कर आई है लेकिन तुने बिना सोचे समझे उस औरत कौशल्या की भड़काऊ बात में आ कर बिना सुने दूरी बना ली यह मुझे  बहुत दुख दे रहा है जो अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है ।

    मेरी पुलिस और प्रशासन से यही प्रथना है कि मुझे आत्महत्या करने पर मजबूर करने और मेरी मौत की ज़िम्मेदार  यही दोनों औरते है जिसका नाम कौशल्या मिश्रा है और बिंसी परेरा है ।

    कार्तिक मेरे बेटे मुझे माफ़ के देना में एक अच्छा पिता नहीं बन पाया मेरे अकाउंट में जो रुपये पड़े है बेटे उससे तू मेरी तरफ़ से बुलेट बाइक ले लेना और तेरी स्कूल की फी जमा कर लेना ।और मेरा आई फ़ोन  मेरे मरने के बाद मेरे बेटे कार्तिक को दे देना ।

    जय भवानी गोल्ड के जितेंद्र सिंह के पास मेरे लग भग 4लाख 50 हज़ार रुपये पड़े है वो कार्तिक को दे देना उसकी स्कूल फी के काम आयेंगे ।

    नन्नू मेरे छोटे भाई पापा और मम्मी का ध्यान रखना।मेरी प्यारी कार (छुट्टन)को बेचना मत ।

    पापा मम्मी नन्नू सब को मेरा प्यार

    एक बार फिर मेरे सभी प्यारे दोस्तों और साथियों को अलविदा ।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -
    Google search engine

    Most Popular

    Recent Comments