Wednesday, July 24, 2024
Homeभारत7 से 15 जुलाई के बीच 406 पैसेंजर ट्रेन रद्द, जानें वजह

7 से 15 जुलाई के बीच 406 पैसेंजर ट्रेन रद्द, जानें वजह

नई दिल्ली। पिछले कुछ दिनों में भारी बारिश के बाद पटरियों पर जलभराव के कारण 7 जुलाई से 15 जुलाई के बीच 300 से अधिक मेल व एक्सप्रेस ट्रेन और 406 पैसेंजर ट्रेन रद्द कर दी गई हैं।

अधिकारियों ने बताया कि पटरियों पर पानी भरने की वजह से 600 से अधिक मेल/एक्सप्रेस ट्रेन, 500 पैसेंजर ट्रेन की सेवाएं प्रभावित हुई। उत्तर पश्चिम भारत में शनिवार से 3 दिन तक लगातार बारिश हुई। जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कई इलाकों में भारी से बेहद भारी बारिश दर्ज की गई। इस वजह से नदी-नालों में जलस्तर बढ़ गया और बुनियादी ढांचे को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में आवश्यक सेवाएं भी प्रभावित हुई।

अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि इस क्षेत्र में सेवाओं का संचालन करने वाले उत्तर रेलवे ने करीब 300 मेल/एक्सप्रेस ट्रेन को रद्द कर दिया। 100 ट्रेन को बीच रास्ते में रोक दिया गया और 191 अन्य का मार्ग बदला गया। कुल 67 ट्रेन निर्धारित गंतव्य की जगह दूसरे स्थान से शुरू हुई। भारी जलभराव के कारण उत्तर रेलवे ने भी 406 पैसेंजर ट्रेन रद्द कीं, 28 ट्रेन के मार्ग बदले गए, 54 ट्रेन को बीच रास्ते में रोक दिया गया और 56 ट्रेन निर्धारित गंतव्य की जगह दूसरे स्थान से शुरू हुई।

उत्तर रेलवे के एक बयान के मुताबिक, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में लगातार बारिश और खराब मौसम के कारण अंबाला, दिल्ली, फिरोजपुर और मुरादाबाद मंडलों पर ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुई। यात्रियों के मार्गदर्शन के लिए सभी प्रमुख रेलवे स्टेशन पर हेल्प डेस्क की व्यवस्था की गई है। ट्रेन रद्द करने, निर्धारित गंतव्य से पहले रद्द करने/मार्ग बदलने /यात्रा शुरू करने के संबंध में स्टेशन पर नियमित रूप से घोषणाएं की जा रही हैं। यात्रियों को टिकट की जानकारी और पैसे वापस करने के लिए उत्तर रेलवे में विभिन्न स्थानों पर अतिरिक्त काउंटर खोले गए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि जलभराव संबंधी जानकारी देने के लिए रेलवे कर्मचारियों को तैनात किया गया है और स्थिति की नियमित निगरानी की जा रही है।

Mamta Berwa
Mamta Berwa
JOURNALIST
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments